बिहार बोर्ड 10th परीक्षा : कॉपी व प्रश्न पत्र लेकर भागा परीक्षार्थी

0
342
Tenth exam cheating in bihar
बिहार बोर्ड की 10th परीक्षा में से एक परीक्षार्थी परीक्षा केंद्र से प्रश्नपत्र और कॉपी लेकर फरार हो गया है।

बिहार बोर्ड की 10th परीक्षा में से एक परीक्षार्थी परीक्षा केंद्र से प्रश्नपत्र और कॉपी लेकर फरार हो गया है।

गया, बिहार में परीक्षा के नाम पर डर खत्म हो चुका है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की 10th परीक्षा में इस बार एक परीक्षार्थी ने कुछ अलग ही कारनामा किया, परिक्षार्थी एक और जहाँ चिट-पुर्जा लेकर परिक्षा हाल में आते हैं वहीं कुछ परिक्षार्थियों का अलग – अलग कारनामे हैं। एक मोहित कुमार नाम का छात्र पिता विजय प्रसाद रोल नंबर-700656 है कापी और प्रश्न पत्र लेकर परिक्षा हाल से फरार हो गया।

जहाँ IAS , IPS और अच्छे-अच्छे पोस्ट का खान माना जाता हैं वहीं कुछ लोग इन जज्बा को निचे दिखान का काम कर रहे हैं।

जैसा कि आपको बता दें मोहित कॉपी व प्रश्न पत्र मिलते ही वह परीक्षा केंद्र के मुख्य द्वार पर पहुंच गया जहाँ पुलिसकर्मी भी तैनात था उन्होंने भी बिना कुछ पुछे उसे जाने दे दिया। कॉपी लेकर भागने वाला परीक्षार्थी अशोक हाईस्कूल, परैया का विद्यार्थी था, महावीर इंटर स्कूल के केंद्राधीक्षक तपेश्वर सिंह ने बताया कि हाईस्कूल परैया के मोहित कुमार सामाजिक विज्ञान विषय का प्रश्न-पत्र व कॉपी लेकर भागा है।

उन्होंने बताया कि परीक्षा समाप्त होने के बाद जब वीक्षक सभी परीक्षार्थियों से कॉपी लेने लगे, तो इसका पता चला। छात्र मोहित कुमार के पिता का नाम विजय प्रसाद बताया गया है। उसका रोल नंबर-700656 है।

जैसा कि आपको बता दें गुरुवार को भी लालू मंडल परीक्षा केंद्र व श्याम बाबू हाईस्कूल संयास आश्रम परीक्षा केंद्र, मानपुर से एक-एक परीक्षार्थी गणित विषय की कॉपी लेकर भागे थे।

परीक्षार्थियों की इस तरह के हरकत से व्यवस्था पर उठने लगे सवाल

परीक्षार्थियों की इस तरह के हरकत पर सवाल उठाये जा रहे हैं कि जब परीक्षार्थी ऐसा कर रहा था तो सुरक्षा वयवस्था कहाँ थी… जैसा कि 2 दिन पहले भी अलग-अलग परीक्षा केंद्रों से परीक्षार्थियों के कॉपी व प्रश्न पत्र लेकर भागने की घटना से सुरक्षा वयवस्था वाकिफ थी। जहाँ प्रशासन तमाम दावा कर रही है कि सबकुछ सही से आँका जा रहा है तो फिर ऐसा घटना कैसे देखने को मिल रही है। इससे तो यही लग रहा कि केंद्रों पर पर्याप्त व्यवस्था के दावे सिर्फ दावे ही हैं। ये दावे हकीकत से कोसों दूर हैं, जो धरातल पर कहीं नजर नहीं आ रहे। अन्यथा, ऐसी घटनाएं न हो पातीं। इसका मतलब तो यह भी है कि परीक्षा केंद्रों पर सिर्फ दिखावे के लिए पुलिस बल की तैनाती की गई है।

loading...

LEAVE A REPLY