Live Practical : इन तरीकों को अपनाने से आपके बच्चों की निंद अच्छी आयेगी…

0
21

बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त नींद काफी महत्वपूर्ण होता है। अब आप यह सुनिश्चित करें कि कैसे आप अपने बच्चे को सही नींद दे पायेंगे, इसके लिए आपको बताने जा रहे हैं कुछ प्रैक्टिकल टिप्स जिससे आप अपने बच्चे को पर्याप्त नींद दे पायेंगे।

स्वस्थ नींद की आदतों के लिए बुनियादी आवश्यकताओं में से एक रात के एक विशेष समय पर बिस्तर के लिए बच्चों को भेजने के लिए है, लेकिन इसके साथ ही, उन्हें आसानी से बिस्तर पर सो जाना चाहिए जो कि उन्हें अगली सुबह ताज़ा और उत्साहित कर देगा। इस पोस्ट से जानिए कैसे आप उन्हें बेहतर और स्वस्थ नींद लाने में आप उनकी मदद कर सकते हैं, जो कि उन्हें बड़े होने पर भविष्य में भी बच्चे की तरह ही निेंद का आनंद ले सकेंगे और स्वस्थ्य होंगे। हालांकि, अच्छी नींद हमेशा किसी भी उम्र में स्वस्थ रहने के लिए उपयोगी होती है।

यदि आप अपने बच्चे के लिए अच्छी नींद सुनिश्चित करना चाहते हैं, तो आपको एक नींद सलाहकार से सलाह लेना चाहिए। अगर आप कुछ बेहतर प्रयास करना चाहते हैं तो आपके लिए बेहतर उपाय है बच्चे की भोजन की खुराक, जिसमें अच्छे खान पान की विशेष देखभाल करने की आवश्यकता है, वे पूर्ण भोजन, लैक्टोज-मुक्त और संतुलित पौष्टिक भोजन हैं और ये किसी भी आयु के 1-10 वर्ष के बच्चों को प्रदान किया जा सकता है।

आज के माता पिता के लिए एक चिन्ता का विषय बन गया है कि वे अपने बच्चे को सोने के लिए बिस्तर पर भेज देते है लेकिन बच्चों को नींद नहीं आती है, वे चिड़चिड़ा हो जाते हैं, हाइपर करते हैं, और अन्य तरह के एक्टिविटी करते हैं जो माता पिता के लिए समस्या बन गया है।

नेशनल स्लीप फाउंडेशन ने उल्लेख किया है कि जो लोग नींद की कमी महसूस करते हैं वे अपने आवश्यक कैलोरी से अधिक खाने की आदत रखते हैं जिसके परिणामस्वरूप चयापचय संबंधी विकार और मोटापे की बिमारी उत्पन्न हो जाते हैं।

यह नींद के साथ मोटापा के बीच एक सीधा संबंध भी साबित करता है। बच्चों के लिए ज़िंदगी में उन्हें आसान बनाने के लिए एक स्वस्थ आदत बनाने की बुनियादी आवश्यकता होती है।

आइये बात करते हैं कुछ टिप्स की जो आपके बच्चों को सही निंद के लिए लाभकारी है….

खास यह है कि बच्चों के लिए और परिवार के लिए एक अच्छी तरह से नियोजित दिनचर्या सेट करना और नियमित रूप से उसका फॅालो करना।

समय में नियमितता

नींद के समय की नियमितता की जरूरत है जिसमें आपको ध्यान रखना है कि कब आपका बच्चा बिस्तर पर सोने जा रहा है और कब जाग रहे हैं। यदि आपका बच्चा बिस्तर पर जाने के 10-15 मिनट के भीतर सो जाता है और सुबह उठता है, तो आप जानते हैं कि उन्हें स्वस्थ नींद मिल रही है।

बच्चे अगर बेचैनी के लक्षण दिखाते हैं, सोने में परेशानी होती हैं, रात के बीच में जागने, खर्राटे लेना, भारी श्वास या परेशानी में श्वास। उस मामले में, एक बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना सबसे अच्छा है।

समय के साथ कार्य

अपने बच्चों के लिए अच्छे नींद लेने के लिए रात या दिन के दौरान काम का रुटिन का विशेष ध्यान देने की जरुरत होती है। चाहे वह दिन का रुटिन हो या रात का । जैसे की समय पर ब्रश करना, समय पर नहाना , समय पर पढ़ना।

एक आरामदायक कमरा बनाओ

कमरे के तापमान को समायोजित करके आरामदायक बनाया जाना चाहिए। ठंडे कमरे में कंबल, मोज़े और जरुरी सामान मौजूद होना चाहिए। कमरा शांत और अंधेरे होना चाहिए।

loading...

LEAVE A REPLY