प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कानपुर में रैली – कहा हमारा एजेंडा काला धन और भ्रष्टाचार खत्म करने का है और विपक्ष का एजेंडा संसद बंद करने का है

0
344

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कानपुर में रैली को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा एजेंडा काला धन और भ्रष्टाचार खत्म करने का है और विपक्ष का एजेंडा संसद बंद करने का है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां इंडियन इंस्ट्टियूट ऑफ स्किल्स की आधारशिला रखी।

मोदी ने कहा हमारा ध्येय युवाओं को सशक्त और इसके लिए सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए हैं। युवाओं को यदि सही प्रकार से मौका और सुविधाएं दी जाएं तो वे राष्ट्र के विकास में बहुत योगदान कर सकते हैं। मोदी ने कहा कि यूपी में गुंडो की सरकार है, लोग इससे परेशान हैं और यूपी में जहां भी मुझे जाने का मौका मिला है और गया हॅु वहाँ के लोगों से पता चल रहा है कि यूपी में परिवर्तन की लहर नहीं, बल्कि आंधी चली है.

मोदी ने कहा कि विपक्ष ने बेईमानों के लिए हंगामा किया. म्यूनिसिपल में चुने हुए लोग भी ऐसा व्यवहार करने से पहले 50 बार सोचते हैं. ऐसा पहली बार हुआ कि बेईमानों की मदद करने के लिए कुछ लोग संसद में नारे लगा रहे थे.

उन्होने कहा कि मैं चुनाव आयोग कि सिफारिशों का अभिनंदन करता हूं. राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे की संसद में चर्चा होनी चाहिए. देश ईमानदारी के रास्ते पर चलना चाहता है. हर पैसे का हिसाब राजनीतिक दल दें. मैंने शुरू से ही इस बारे में राजनीतिक दलों से चर्चा करने को कहा है. मैंने सर्वदलीय बैठक में इस मुद्दे को उठाया था. पूरे देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ हो.

मोदी ने कहा कि जबसे हमने नोटबंदी का फैसला लिया कई बेईमान लोग जो गरीबों के पैसे लूट रखे थे उनके पसीने छूट गए. अब गरीब लोगों की पूछ बढ गई है. मैंने वादा किया था कि 50 दिन परेशानी होगी. 50 दिन की कठिनाई गरीव लोगों को मदद करेगी. देश के लिए आपने कष्ट झेला है. 50 दिन बाद कठिनाई नहीं होगी. मोदी ने कहा कि यूपी के 1500-1600 गांवों में बिजली के खंभे नहीं थे. अब सिर्फ 0-72 गांव ऐसे हैं, जहां बिजली नहीं है. हमने यूपी के गांवों में बिजली पहुंचाई.

मोदी ने कांग्रेस पर भी हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस हमें बदनाम करने की कोशिश करती है. जब सीताराम केसरी कोषाध्यक्ष थे, तो कांग्रेस के लोग ही बोलते थे, ‘न खाता न बही, केसरी कहे वही सही’. कांग्रेस के लोग भाषण देते थे कि राजीव गांधी कंप्यूटर लाए, अब मैं कहता हूं कि मोबाइल को बैंक बना दो, तो कहते हैं कि मोबाइल हैं ही नहीं.

जैसा कि पहले गैस का कनेक्शन लेने के लिए आपको पापड़ बेलने पड़ते थे. हमने बीड़ा उठाया है कि 3 साल के भीतर हर गरीब परिवारों को लकड़ी के चूल्हे से मुक्त कर देंगे. उत्तर प्रदेश में गन्ना किसान परेशान रहते हैं. किसानों को पैसा नहीं मिलता है. पहली बार मिलें चालू हुईं और बकाया राशि के भुगतान में सरकार को सफलता मिली है. मोदी ने कहा कि पहले दूध में भी यूरिया मिलाया जाता था. यूरिया का उपयोग किसानों के बजाए दूध में होने लगा था. यूरिया की नीम कोटिंग करने के बाद अब उसका कोई और उपयोग नहीं हो सकता सिर्फ किसान के अलावा.

loading...

LEAVE A REPLY