प्रिय डोनाल्ड ट्रम्प, भारतीयों की हत्या कर ‘अमेरिका कभी महान नहीं होगा’ इसे रोको

0
238

न्यू जर्सी के घर में एक और भारतीय मूल के मां-बेटे की हत्या हुई, ऐसी घटना अब भारतीय नहीं सह सकता। जैसा कि आपको बता दें कुछ समय पहले दक्षिण कैरोलिना के लैंकेस्टर के 43 वर्षीय भारतीय मूल के स्टोर के मालिक हर्निश पटेल के साथ यह वारदात हुइ थी, इस घटना के दो दिन बाद ही 39 वर्षीय सिख को गोली मार कर घायल कर दिया था और चिल्लाया “अपने देश में वापस जाओ”

इस तरह के बहुतों वारदात हो चुके हैं अब डोनाल्ड ट्रम्प को इसे रोकना होगा। अफसोस की बात है कि, अमेरिका में नफरत, हिंसा का यह रूप बहुत आम होतो जा रहा है।

राष्ट्रपति चुनाव के बाद से जब डोनाल्ड ट्रम्प चुने गए तो संगठनों ने आप्रवासियों और मुस्लिम, सिख, हिंदू, अरब और दक्षिण एशियाई समुदायों के पूर्वाग्रह और उत्पीड़न की रिपोर्ट में अपठित दस्तावेज तैयार किए हैं।

राष्ट्रपति ट्रम्प की आपराधिक नीतियां जो कि आप्रवासियों, मुसलमानों और रंगों के लोगों को बंदी, दीवारों और छापों के माध्यम से लक्षित करते हैं, वे इस माहौल को केवल उत्तेजित करते हैं। यह संदेश उस जनता के लिए किया जा रहा है जो अमेरिका के नहीं हैं।

इस हालात को देखते हुए, आश्चर्य की बात नहीं है कि यहूदी समुदाय केंद्रों, घरों और मस्जिदों के प्रति उत्पीड़न और भेदभाव की रिपोर्टें भी बढ़ रही हैं।

इसलिए ट्रंप जी अमेरिका में विभिन्न घटनाओं के माध्यम से संदेश यह है कि पहले उदार लोकतांत्रिक देश में रंग और धर्म बहुत महत्वपूर्ण हैं। और ऐसे घटना से यह पता चल रहा है कि अमरीकन आप्रवासियों को पसंद नहीं करता है। लेकिन यह संयुक्त राज्य अमेरिका की परंपरा नहीं है, जैसा कि आपको बता दें अमेरिका आप्रवासियों के देश के रूप में ही शुरू हुआ था। अमेरिका एक पिघला हुआ बर्तन है जहाँ हर कोइ का स्वागत होना चाहिए।

loading...

LEAVE A REPLY