चीन को भी सताया डर कहा मोदी जैसा ताकतवर नेता कोइ नहीं, ग्लोबल टाइम्स ने लिखा-अब नहीं झुकेगा भारत

0
597

विपक्ष के बाद अब चीन को भी सताया डर कहा मोदी जैसा ताकतवर नेता को नहीं जीतना चाहिए था, ग्लोबल टाइम्स ने लिखा-अब नहीं  झुकेगा भारत

विपक्ष के बाद अब चीन को भी डर सता रहा है कि मोदी जैसा ताकतवर नेता देश को आगे तक ले जाएगा। उत्तराखंड और युपी में प्रचंड बहुमत लाने के बाद चीन को डर सताने लग गया कि कहीं 2019 का भी चुनाव मोदी जीत ना ले। बीजेपी की इस जीत के बाद चीन की सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी में कयासों का बाज़ार गर्म है। ये चर्चा इस बात को लेकर है कि हाल के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की बंपर जीत के बाद आत्मविश्वास से लबरेज बीजेपी की सरकार चीन के साथ विवादास्पद मुद्दों को सुलझाने के लिए शायद ही कोई नरम रुख दिखाए। नोटबंदी का उदाहरण देते हुए कहा कि मोदी नोटबंदी जैसे कड़े फैसला ले सकता है तो कुछ भी कर सकता है।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा 2019 में मोदी का PM बनना तय

वहीं ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि इस जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का रुख घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मोर्चों पर और भी सख़्त होगा। ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि इस जीत के बात 2019 का आगामी चुनाव के रास्ते भी पक्के कर लिेए हैं और इन्हें जीतने से कोइ रोक नहीं सकता। जैसा कि आपको बता दें इस वक्त भारत और बीजिंग के रिश्ते काफी नाजुक दौर में हैं इसलिए राजनीतिज्ञ अब ये आकलन करने में लगे हैं कि सत्ता पर पकड़ मजबूत करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी चीन के साथ भारत के रिश्तों को कैसे देखते हैं।’

ग्लोबल टाइम्स लिखता है कि अगर मोदी अगला चुनाव जीत जाते हैं तो भारत का विदेश नीति पर वर्तमान सख्त और स्पष्ट रवैया निश्चित रुप से जारी रहेगा। हालांकि ये निश्चित रुप से भारत के विकास के लिए ठीक रहेगा, लेकिन इसका ये भी मतलब है कि दूसरे देशों के साथ विवाद के मुद्दों पर भारत समझौता करने को तैयार नहीं होगा।’ अखबार के मुताबिक इसी परिपेक्ष्य में चीन-भारत के सीमा विवाद को देखा जाना चाहिए, जिसमें अब तक सुलह की कोई किरण नहीं नज़र आती है और पीएम मोदी ने इसी बॉर्डर पर भारत के सबसे बड़े त्योहार दीवाली को सैनिकों के साथ मनाकर, विश्व पटल पर अपना संदेश दे दिया है। अखबार के मुताबिक,’चीन के लिए ये वक्त दरअसल एक मौका है ये देखने का कि विवादास्पद मुद्दों पर एक कठोर रुख रखने वाली दिल्ली की सरकार के साथ रिश्ते कैसे बेहतर किये जाएं।

loading...

LEAVE A REPLY