अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिन की ढ़ेर सारे शुभकामनाएँ .. जानिये वाजपेयी भारत के इतने चहेते कैसे है ?

0
485

अटल बिहारी वाजपेयी का आज 25 दिसंबर को जन्मदिन है। आइये सब मिलकर बधाई देते हैं। वे आज 92 वर्ष के हो गये. स्वास्थ्य सही ना होने की वजह से एक दशक से राजनीति से दूर रह रहे हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में..

अटल जी के चहेते पुरे देश-विदेश है… वे अपनी पुरी जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिये..

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर में हुआ था। वे भारत के पुर्व चहेते प्रधानमंत्री रह चुके हैं , वे हिन्दी कवि, पत्रकार व प्रखर वक्ता भी हैं। अटल बिहारी वाजपेयी भारत के दशवें प्रधानमंत्री थे। वाजपेयी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पहले प्रधानमन्त्री थे जिन्होंने गैर काँग्रेसी प्रधानमन्त्री पद के 5 साल बिना किसी समस्या के पूरे किए। उन्होंने 24 दलों के गठबंधन से सरकार बनाई थी जिसमें 81 मन्त्री थे। कभी किसी दल ने आनाकानी नहीं की।

अटल बिहारी वाजपेयी पुरे जीवन अविवाहित रहे । वे एक ओजस्वी एवं पटु वक्ता एवं सिद्ध हिन्दी कवि भी हैं। परमाणु शक्ति सम्पन्न देशों की संभावित नाराजगी से विचलित हुए बिना उन्होंने अग्नि-दो और परमाणु परीक्षण कर देश की सुरक्षा के लिये साहसी कदम भी उठाये। अटल सबसे लम्बे समय तक सांसद रहे हैं

वाजपेयी भारत के पहले विदेश मंत्री थे जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में भाषण देकर भारत को गौरवान्वित किया था।

माता पिता का नाम

पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी
माता सहधर्मिणी कृष्णा वाजपेयी

अटल जी की शिक्षा

वाजपेयी जी ने बी.ए की डीग्री विक्टोरिया कालेज ग्वालियर (वर्तमान नाम लक्ष्मीबाई कालेज) से ली। वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक थे और अपना जीवन आजीवन अविवाहित संकल्प लेकर प्रारंभ किया और राष्ट्रीय स्तर की वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहे। अटल जी एम. ए राजनीति शास्त्र से डी०ए०वी० कालेज से की जिसमें प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की। उसके बाद एल०एल०बी० की भी पढाइ कानपुर से ही की।

अवार्ड

वर्ष 1992 में पद्म विभुषण से सम्मानित किया गया।
वर्ष 1993 में
वर्ष 1994 में लोकमान्य तिलक अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वर्ष 1994 में बेस्ट पार्लियामेंन्ट्रीयन अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वर्ष 1994 में भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वर्ष 2015 में सबसे बड़े अवार्ड भारत रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वर्ष 2015 में लिब्र्शन वार अवार्ड से सम्मानित किया गया

अटल जी की प्रमुख रचनायें

मृत्यु या हत्या
अमर बलिदान (लोक सभा में अटल जी के वक्तव्यों का संग्रह)
कैदी कविराय की कुण्डलियाँ
संसद में तीन दशक
अमर आग है
कुछ लेख: कुछ भाषण
सेक्युलर वाद
राजनीति की रपटीली राहें
बिन्दु बिन्दु विचार, इत्यादि।

पाकिस्तान से संबंधों में सुधार की कोशिश

19 फ़रवरी 1999 को दिल्ली से लाहौर सदा-ए-सरहद नाम से बस सेवा शुरू की। इस सेवा का उद्घाटन करते हुए सबसे पहला यात्री के रूप में वाजपेयी जी खुद पाकिस्तान की यात्रा कर नवाज़ शरीफ से मुलाकात की और आपसी संबंध अच्छे करने की बात की।

कारगिल युद्ध

कुछ समय बाद ही पाकिस्तान के तत्कालीन सेना प्रमुख पाकिस्तानी सेना व उग्रवादियों के साथ कारगिल क्षेत्र में घुसपैठ कर ली और कइ जगहों पर कब्जा कर ली । अटल बिहारी वाजपेयी पाकिस्तान की सीमा का बिना उल्लंघन करते हुए धैर्यपूर्वक व ठोस कार्यवाही करके भारतीय क्षेत्र को मुक्त कराया। जिसमें दोनों तरफ से काफी जान माल का नुकसान हुआ और इस तरह से फिर से पाकिस्तान के साथ शुरु किए गए संबंध शुन्य हो गए।

वाजपेयी सरकार के अन्य प्रमुख कार्य ।

100 साल से भी ज्यादा पुराने कावेरी जल विवाद को सुलझाया…..
सॉफ्टवेयर क्षेत्र में विकास …
विद्युतीकरण में गति …..
राष्ट्रीय राजमार्गों एवं हवाई अड्डों का विकास…..
राष्ट्रीय स्तर पर सुरक्षा की बढत…..
आवश्यक सामग्रियों की कीमतें नियन्त्रित करने के लिये मुख्यमन्त्रियों का सम्मेलन बुलाया….
आवास निर्माण को प्रोत्साहन …..
भारत भर के चारों कोनों को सड़क मार्ग से जोड़ना….

loading...

LEAVE A REPLY